मोगल धाम कबराव इतिहास हिन्दी mogal dham kabrau history In Hindi

मोगल धाम कबराव इतिहास हिन्दी mogal dham kabrau history In Hindi

Aug 13, 2023 - 01:10
Aug 22, 2023 - 00:06
 0  4123
मोगल धाम कबराव इतिहास हिन्दी mogal dham kabrau history In Hindi

मोगल धाम कबराव इतिहास बापू द्वारा बताए गए इतिहास के अनुसार बापू कहते हैं कि मैं यहां मजदूरी करने आया था और मैं मजदूरी करता था। गांव का नाम दहोसरा है यह चरवाहों का गांव है। यहां जहल जो अब यहां आया था कहा जाता है वरुडी शंकर की बेटी नदाबेट हो और माताजी ने मुझसे विवाह किया इसलिए नवघन पिपराली से बाहर आए इसलिए माताजी नवघन के भाले पर वहां गईं इसलिए उन्हें नदाबेट के नाम से जाना जाता है। बापू कहते हैं कि जहां-जहां पानी होता है वहां-वहां बैलों के साथ-साथ भैंसें भी होती हैं और बैलों को बाल्टी में लेकर माताजी से कहते हैं कि जहां हम दीपक बनाते हैं वहां असली निशानी माताजी की होती है और फिर हम दीपक बनाते थे और यह कोई दीपक नहीं बल्कि हमारी कीमत है। इसलिए हम माताजी से प्रेमपूर्वक प्रार्थना करते हैं सच्चे नागारा तब बादल यहां सूर्यास्त की दिशा में बैठकर खेलता है और जैसी माताजी की इच्छा होती है माताजी वैसा ही करती है।

बापू कहते हैं कि माताजी यहीं रुक गईं क्योंकि माताजी यहीं रुक गईं। बापू का नाम मणिधर बापू है। बापू इस मंदिर की सेवा और पूजा करते हैं और मंदिर की देखभाल भी करते हैं और सारी व्यवस्थाएं भी संभालते हैं। मारियो स्वयं मुगल थे और बापू ने कहा था कि मैं बिना प्रमाण के विश्वास नहीं करता इसलिए अब बापू ने और प्रमाण माँगा तो बापू ने कहा कि मैं आस्था के ख़िलाफ़ हूँ और मैं विश्वास नहीं करता तब माताजी ने मणिधर बापू से कहा बेटा मैं ऐसा आदमी हूँ

 मुझे जगाओ माताजी ने मणिधर बापू से कहा दर्शक मित्रों ये है काबरौ मुगल धाम कच्छ का इतिहास कृपया कमेंट करें और अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर करें कमेंट में जय मान मुगल लिखें दर्शक मित्र मैं आपको बता दूं कि ये जानकारी यूट्यूब वीडियो के माध्यम से हमें प्राप्त हुआ है यदि कोई गलती हो तो क्षमा करें यदि ऐसा हुआ हो तो क्षमा करें क्योंकि हमने बहुत खोजा इंटरनेट पर भी हमें इतिहास के बारे में जानकारी नहीं मिली इसलिए हमने यूट्यूब पर एक वीडियो देखा और उसमें बापू ने कहा कई विधियां।

बापू की कही गई बात के अनुसार हमने आपको माताजी के इतिहास के बारे में बताने की कोशिश की है  

मोगल धाम कबराव इतिहास हिन्दी

भगुड़ा मोगल मां का इतिहास

मोगल माँ जन्म भीमराना का इतिहास

Dhrmgyan अब आप भी इस वेबसाइट पर जानकारी साझा कर सकते हैं। यदि आपके पास लोक साहित्य, लोकसाहित्य या इतिहास से संबंधित कोई रोचक जानकारी है और आप इसे दूसरों के साथ साझा करना चाहते हैं, तो इसे हमारे ईमेल- [email protected] पर भेजें और हम इसे लाखों लोगों के साथ साझा करेंगे। .