SANATAN DHARMA STATUS

SANATAN DHARMA STATUS

May 27, 2023 - 12:07
Jun 12, 2023 - 00:49
 1  1814

1.

खून अपना गरम है क्योंकि हिन्दू अपना धर्म है।

2.

जिसको भगवा से प्यार नहीं वो भड़वा मेरा यार नहीं.

3.

मैं हिन्दुत्व कहूँगा तुम हिन्दुस्तान समझ लेना

4.

ना भावनाओं से ना संविधान से देश चलेगा तो सिर्फ गीता पुराण से

5.

भगवा ध्वज हवा से नही रामभक्तों की जयकारों से लहराता है।

6.

हिन्दुत्व धरा का धर्म है भगवा नही झुकेगा, काफिला शेरो का है कुत्तों से नही रुकेगा।

7.

ना मुझे नाम चाहिये ना ही मुझे ईनाम चाहिए मुझे तो बस भगवा से सजा पूरा हिन्दुस्तान चाहिये।

8.

अमर भगवा स्वाभिमान से दुनिया भर मैं डोलेगा, जहा गिरेगा लहू हमारा जय जय श्रीराम बोलेगा।

9.

हिन्दू होना भाग्य हैं, पर कट्टर हिन्दू होना सौभाग्य हैं।

10.

तुम जितना मुझसे टकराओगे, मैं उतना कट्टर होता जाऊंगा।

11.

कट्टर हिन्दू तो मैं पहले से ही हूँ, अब मुझे कट्टर देशभक्त बनना हैं।

12.

नफरत नहीं हम प्रेम के आदि हैं, हमें गर्व हैं हम हिन्दूत्व वादी हैं।

13.

घमंड पैसों का नहीं साहब, कट्टर हिन्दू होने का हैं।

14.

हिंदुत्व से उपजी सभी विचारधाराएँ महान हैं चाहे बौद्ध, जैन अथवा सिख कोई भी हो।

15.

मुहर्रम में महादेव बसें रमज़ान में राम संपूर्ण राष्ट्र में भगवा बसे ऐसा हो मेरा हिंदुस्तान

16.

भगवा माथे पर जरूरी नही है लेकिन हाँ, व्यक्तित्व में होनी जरूरी है।

17.

वो भी मीट जाएंगे जो देश को तोड़ा करते थे भगवा जैसे शब्द को भी आतंक से जोड़ा करते थे।

18.

भगवा माथे पर जरूरी नही है लेकिन हाँ, व्यक्तित्व में होनी जरूरी है।

19.

जलते दीपक में भगवा है कब तक उसे बुझाओगे भगवा मिटाने वालों कैसे सूरज चाँद मिटाओगे…

20.

सनातन धर्म शायरी हिन्दू जब हिंदुत्व पर डट गया बहुतों का सेक्युलरिज्म का चोला फट गया…

21.

वो दलित और ब्राह्मण करते रहेंगे तुम बस हिंदुत्व पर अड़े रहना

22.

जिसने देखा भगवा का अंदाज़ वो सदमे में है तभी तो पूरी दुनियाँ श्री राम के कदमों में है ।

23.

सिर्फ दो चीज़ो को देखकर ही दिल खुश हो जाता है भगवा ओर तिरंगा बाकी गए तेल लेने

24.

जो हिन्दू शिव और राम का नहीं, वह किसी काम का नहीं।

25.

भगवा ध्वज हवा से नही रामभक्तों की जयकारों से लहराता है

26.

हमारा हिंन्दु धर्म हमको आतंकवादी नही, बल्की बाहुबली बना देता हैं।।

27.

मंदिर, जनेऊ, टीका ही हैं सर्वोपरि, रोजा पार्टी वाले भी बोल रहे हरि हरि।

Dhrmgyan यह इतिहास इंटरनेट सर्फिंग और लोककथाओं के आधार पर लिखी गई है, हो सकता है कि यह पोस्ट 100% सटीक न हो। जिसमें किसी जाति या धर्म या जाति का विरोध नहीं किया गया है। इसका विशेष ध्यान रखें। (यदि इस इतिहास में कोई गलती हो या आपके पास इसके बारे में कोई अतिरिक्त जानकारी हो तो आप हमें मैसेज में भेज सकते हैं और हम उसे यहां प्रस्तुत करेंगे) [email protected] ऐसी ही ऐतिहासिक पोस्ट देखने के लिए हमारी वेबसाइट dhrmgyan.com पर विजिट करें