history pakistan Vachhraj Solanki हमारा इतिहास पाकिस्तान

our history pakistan Vachhraj Solanki हमारा इतिहास पाकिस्तान

May 29, 2023 - 22:19
Jun 20, 2023 - 19:46
 0  321

1. हमारा इतिहास पाकिस्तान

हमारा इतिहास पाकिस्तान

पाकिस्तान में वच्छराज दादा मंदिर

 वच्छराज सोलंकी वीर वछारा दादा का एक भव्य प्रसिद्ध मंदिर पाकिस्तान में थारपारकर जिले के डिप्लो तालुक के वनहरियो गांव में स्थित है!

 पाकिस्तान में स्थित हिंदुओं के लिए आस्था का केंद्र वनहारियो गांव में वच्छराज सोलंकी वीर वछारा दादा का बड़ा निवास स्थान है। जहां वर्षों से मेला लगता है और दादा का मेला लगता है। हजारों की संख्या में भक्त दादा की उपस्थिति में शीश झुकाते हैं और भक्ति करते हैं। पाकिस्तान के इस मंदिर के बारे में मंगलसिंह राठौड़ कहते हैं कि हमारे बुजुर्गों के अनुसार वच्छराज सोलंकी वीर वछारा दादा का धाम ओन्हेरियो (ओनहेरियो) गांव में स्थित है। जब माताजी जात्रा गई थीं उसके साथ बड़ी संख्या में लोग थे और दादा यहाँ रुके थे उस समय वनहारियो गाँव के आसपास के गाँवों में राजपूत लोगों की बड़ी आबादी थी! तब आसपास के लोगों ने खूब सेवा की !

2.

च्छराज सोलंकी वीर वछारा दादा मान गए और वादा किया कि मेरी प्रार्थना आपके साथ रहेगी और अगर आप मुझे अपने दुख की घड़ी में याद करते हैं, तो मैंने वादा किया था कि मैं आपके सभी दुखों को दूर करूंगा और आज भी वहां के हिंदू कहते हैं कि वच्छराज सोलंकी वीर वछारा दादा आज भी , दुख की घड़ी में अगर हम याद कर लें तो हमारे दुख दूर हो जाते हैं !

 वच्छराज सोलंकी वीर वछारा दादा धाम के समीप हिन्दुओं में राजपूत जाति के साथ-साथ अनुसूचित जाति और भील जाति के गाँव हैं जिनमें श्री खेंगोजी सोलंकी सोलंकी परिवार के गढ़ीपति थे।

 अनुसूचित जातियों में वाणिया सख हैं जो वाचराज दादा की सेवा करते हैं जिन्हें वहां पीर बुहारिया के नाम से जाना जाता है! और भील जाति में एक साख है जो वहाँ खाक्यान के नाम से जाना जाता है! जो दादा की सेवा भी करता है!

 पाबूजी राठौड़ भील थे जिनका एक महान इतिहास जुड़ा हुआ है!वच्छराज सोलंकी वीर वछरा दादा का मेला भाद्रव के महीने में लगता है। जहां श्री दानोजी डोडा सोढ़ा के पुत्र भूरोजी डोडा सोढ़ा धूप और पूजा करते हैं और वहां मौजूद पुजारी भूरोजी सोढा के पहले बकरे थे कुर्बानी दे रहे थे !

3.

वचराज सोलंकी वीर वछारा दादा धाम में अब यज्ञ बंद हो गया है। श्री वचराज सेवा मंडल राजपूत बिरादरी मेले के दिन भारी संग्रह करती है! यह मेला वर्षों से चला आ रहा है और यह मेला एक दिन का है। महान चमत्कार वच्छराज सोलंकी वीर वाचरा दादा का कहना है कि अगर इस क्षेत्र में किसी को कुत्ता या सांप या कोई जहरीला जानवर काट लेता है तो लोग वच्छराज सोलंकी वीर वचरा दादा धाम आते हैं और दादा को अगरबत्ती जलाते हैं और उनकी चुटकी खाते हैं और आज भी वच्छराज सोलंकी वीर वछार दादा का चमत्कार है कि सब कुछ तुरंत ठीक हो जाता है और अगर आपको कुत्ते ने काट लिया है तो आपको कभी भी रेबीज नहीं होता है। जहां आस्था की बात होती है वहां सबूत की जरूरत नहीं होती और यहां आज वछराज सोलंकी वीर वछारा दादा सबूत देते हैं!वछराज सोलंकी मेले में वीर वछारा दादा बड़ी संख्या में हिंदू दर्शन करने आते हैं और मेले में कई खेल भी खेले जाते हैं, अब यहां मौत का कुआं छोटा-बड़ा चकडोल के साथ-साथ घुड़दौड़ और मबलखड़ो भी है जो आकर्षण का केंद्र है। गोरा!

4.

वछराज सोलंकी वीर वछरा दादा धाम पाकिस्तान में कई लोगों की आस्था का केंद्र है। जब हम कच्छ के छोटे से रेगिस्तान में वच्छराज सोलंकी वीर वचरा दादा धाम पाकिस्तान में स्थित वछराज सोलंकी वीर वचरा दादा धाम हैं। कुछ समय पहले की तस्वीरें पाकिस्तान में वच्छराज सोलंकी वीर वचरा दादा धाम वायरल हुआ और ऊपर की फोटो से लग रहा था कि यह फोटो पाकिस्तान की है, लेकिन यह मंदिर कहां स्थित है? इसका इतिहास क्या है? दादा के बहुत से भक्तों को यह जानकर आश्चर्य हुआ कि पाकिस्तान में दादा का एक मंदिर है और इतना बड़ा मेला लगता है और यहाँ हम लोगों को इस बात की जानकारी ही नहीं थी। ताकि दादा के कई सेवकों को पाकिस्तान में वच्छराज सोलंकी वीर वछारा दादा मंदिर के बारे में पता चल सके जिसे मैंने दादा की कृपा से आज आपके सामने उठाया और भेंट किया!

 

वाचरा दादा का इतिहास

भाथीजी महाराज मंदिर का इतिहास फागवेल

वच्छराज दादा बेट का इतिहास

Dhrmgyan यह इतिहास इंटरनेट सर्फिंग और लोककथाओं के आधार पर लिखी गई है, हो सकता है कि यह पोस्ट 100% सटीक न हो। जिसमें किसी जाति या धर्म या जाति का विरोध नहीं किया गया है। इसका विशेष ध्यान रखें। (यदि इस इतिहास में कोई गलती हो या आपके पास इसके बारे में कोई अतिरिक्त जानकारी हो तो आप हमें मैसेज में भेज सकते हैं और हम उसे यहां प्रस्तुत करेंगे) [email protected] ऐसी ही ऐतिहासिक पोस्ट देखने के लिए हमारी वेबसाइट dhrmgyan.com पर विजिट करें